Hindi wikipedia page of Kumbhandas (hi.wikipedia.org) Vallabha Vaishnavism Vallabha (Acharya)

1 points | Post submitted by jay 729 days ago | 0 comments | viewed 680 times

Link of Web Resource/Blog/Video : hi.wikipedia.org

कुम्भनदास(१४६८-१५८३) अष्टछाप के प्रसिद्ध कवि थे। ये परमानंददास जी के समकालीन थे। कुम्भनदास का चरित "चौरासी वैष्णवन की वार्ता" के अनुसार संकलित किया जाता है।

कुम्भनदास ब्रज में गोवर्धन पर्वत से कुछ दूर "जमुनावतौ" नामक गाँव में रहा करते थे। उनके घर में खेती-बाड़ी होती थी। अपने गाँव से वे पारसोली चन्द्रसरोवर होकर श्रीनाथ जी के मन्दिर में कीर्तन करने जाते थे। उनका जन्म गौरवा क्षत्रिय कुल में हुआ था। कुम्भनदास के सात पुत्र थे, जिनमें चतुर्भजदास को छोड़कर अन्य सभी कृषि कर्म में लगे रहते थे। उन्होंने १४९२ ई० में महाप्रभु वल्लभाचार्य से दीक्षा ली थी।

वे पूरी तरह से विरक्त और धन, मान, मर्यादा की इच्छा से कोसों दूर थे। एक बार अकबर बादशाह के बुलाने पर इन्हें फतेहपुर सीकरी जाना पड़ा जहाँ इनका बड़ा सम्मान हुआ। पर इसका इन्हें बराबर खेद ही रहा, जैसा कि इनके इस पद से व्यंजित होता है-

संतन को कहा सीकरी सों काम ?

आवत जात पनहियाँ टूटी, बिसरि गयो हरि नाम।।

जिनको मुख देखे दुख उपजत, तिनको करिबे परी सलाम।।

कुभंनदास लाल गिरिधर बिनु और सबै बेकाम।।

- Khumbahnadas , Read more on the link of wiki above


NoComments posted, be the first one.

Please Login or Signup to leaveComments

Welcome to HMW!


This site is for discussion about Hinduism.

You must have an account here to participate. Its free to use this site.

Register here >>>>

Suggested for you

Books based on Hinduism

Explore 101 Books You Must Read

Shri Ramacharitamanasa of Tulasidasa: The Holy Lake of the Acts of Rama

Click here to Buy From Indic Brands

"Indic Brands" is a curated marketplace of remarkable brands that value and celebrate our cherished cultural heritage.

We do NOT offer personalized advice based on Astrology.

Check the Guidelines for posting >>>>